मंगलवार, 19 जून 2012

चींटी रानी




छोटे राजा नन्हीं रानी
फ़ौज है किन्तु उनकी भारी
जुटा रहे हैं दाना–पानी
कहलाये सामाजिक प्राणी

बातें करती भागी फिरती
मेहनत की हैं वो पुजारी
गिरती उठती उठकर चलती
लेकिन हार कभी ना मानी

चीनी मीठे की दीवानी
निश्चय होगी मीठी वाणी
कहती हो तुम कौन कहानी
चींटी रानी चींटी रानी



images :thanks google image 

19 टिप्‍पणियां:

  1. ...बिलकुल सच..बहुत सुंदर रचना..!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. चींटी रानी की सुन्दर काव्यमय कहानी
    पढकर मन प्रसन्न हो गया.

    पर मेरा ब्लॉग ....अभी उदास है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी बाल रचना ... प्रेरणा देती हैं ऐसी रचनाएं बच्चों कों ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर बालगीत!
    इसको साझा करने के लिए आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  5. apki is rachna ne mujhe bal bhaskar ki yaad dila di.... :0

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही अच्छा गीत और चित्र उससे भी अच्छे |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी कविताएँ सहज ग्राह्य हैं वन्दना जी !

    उत्तर देंहटाएं
  8. aapki yeh bal rachna bachchon ko behad pasand aaegee,bahut khubsurat kavita hai,badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहद प्रभावशाली रचना ! आभार आपका !

    उत्तर देंहटाएं
  10. I read your post interesting and informative. I am doing research on bloggers who use effectively blog for disseminate information.My Thesis titled as "Study on Blogging Pattern Of Selected Bloggers(Indians)".I glad if u wish to participate in my research.Please contact me through mail. Thank you.

    http://priyarajan-naga.blogspot.in/2012/06/study-on-blogging-pattern-of-selected.html

    उत्तर देंहटाएं
  11. वंदना जी,
    नमस्कार
    बहुत अच्छा लिखती हैं आप !
    ये बाल कविता भी सुंदर व सीख देने वाली है !!

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुंदर बाल कविता है वंदना जी ......

    उत्तर देंहटाएं
  13. प्रतिभाओं की कमी नहीं
    अवलोकन - 2011
    इस संग्रह में आप भी हैं , यदि इसकी एक प्रति आपको चाहिए तो कृपया सूचित करें और पुस्तक पायें .... अपना address भी पिनकोड के साथ भेजें और मोबाइल no
    pustak mulya 500/ dene hain
    rasprabha@gmail.com per sampark karen

    उत्तर देंहटाएं